How to start a clothing store business plan?

अगर आप भी कोई नया बिजनेस खोलने के बारे में सोच रहे हैं तो कपड़े का बिज़नेस करना काफी बेहतर रहेगा। कपड़ो का व्यवसाय या रेडीमेड गारमेंट की दुकान आजकल हमारे देश में तेजी से बढ़ रहा है। कपड़ों पर आपको ज्यादा मार्जिन मिल सकता है इसलिए यह उद्योग काफी फायदे कारक होता है। परन्तु आपको फैशन और बदलते ट्रेंड के अनुसार वैरायटी भी रखनी होती है। कपड़ों का व्यापार एक ऐसा व्यापार है जो हज़ारों वर्षों पुराना है तथा मार्केट में जितनी चाहे मंदी क्यों न आए, यह बिज़नेस समाप्त होने वाला नहीं है क्योंकि कपड़े इंसान की बेसिक नीड यानी मूल आवश्यकता होते हैं।

कई लोग कपड़ों की दुकान है तो खोल लेते हैं लेकिन उन्हें फायदे के बजाय नुकसान ही हाथ लगता है इसका कारण यह होता है की वह बिना किसी प्लानिंग और जानकारी के अथवा जल्दबाजी में बिना सोचे समझे इस काम को शुरू कर देते हैं। कपड़ों की दुकान के बिज़नेस में सफल होने के लिए कई बातों का ध्यान रखना होता है, जो आज हम आपको अपने इस आर्टिकल में बताने जा रहे हैं, तो शुरू से अंत तक इसे ध्यान से पढ़िये और अपने बिज़नेस को कामयाब बनाइए।

  • कपड़ो का प्रकार तय कीजिए

सबसे पहले आपको यह निर्धारित करने की आवश्यकता है की आप अपनी दुकान में किस प्रकार के कपड़े बेचना चाहते हैं। क्योंकि कपड़ों में बहुत तरह की वैरायटी आती है। कपड़ों की वैरायटी उनकी क्वालिटी और ब्रांड के अनुसार भी आती है। साथ ही आपको यह निर्धारित भी भी करना पड़ेगा की आप अपनी दुकान में बच्चों के कपड़े रखना चाहते हैं, लड़कियों के अथवा महिलाओं के कपड़े रखना चाहते हैं या फिर आप जेंट्स गारमेंट रखना चाहते हैं। वैसे आप अपनी दुकान में इनमें से दो तीन प्रकार के कपड़े साथ में भी रख सकते हैं लेकिन हम आपको यही सलाह देना चाहेंगे कि आप शुरुआत में किसी एक प्रकार के कपड़ों से ही अपना बिजनेस शुरू करें जैसे पहले बच्चों के कपड़े बेचना चाहते हों तो केवल वही रखिये।

  • मार्केट रिसर्च अवश्य कर लीजिए

यह बिजनेस स्टार्ट करने से पूर्व आप अपने पास के मार्केट से यह पता कर लीजिए कि वहां पर कौन सा ट्रेंड चलता है, कौन सी वेराइटी ज्यादा पसंद की जाती है, किस तरीके के ग्राहक आते हैं और किस दाम में कपड़े बिकते हैं। आपको मार्केट से पता करना होगा कि आजकल वहां पर कपड़ों में कौन सा फैशन चल रहा है जो पसंद किया जाता है।

  • लाइसेंस और  जरूरी कागजात तैयार कीजिए

आप चाहे कोई भी बिजनेस क्यों ना शुरू करें उसके लिए कागजी कार्यवाही पूरी कर लेना अति आवश्यक होता है, ताकि आगे जाकर आपको कोई दिक्कत ना आए। हर किसी बिजनेस के लिए ट्रेड लाइसेंस बनवाना जरूरी होता है। यह लाइसेंस लोकल मुंसीपारटी द्वारा बनाया जाता है। यदि आप अपने ही देश में लेकिन अपने शहर के बाहर अपना माल बेचना चाहते हैं तो उसके लिए आपको अलग का लाइसेंस बनवाना होगा।

ट्रेड लाइसेंस बनवाने के साथ-साथ आपको GST Goods and service tax हेतु रजिस्ट्रेशन भी करवाना होगा। जो कि आप किसी भी चार्टर्ड अकाउंटेंट अथवा टैक्स कंसलटेंट के पास जाकर करवा सकते हैं। अगर आपका वार्षिक टर्नओवर 20 लाख से ज्यादा हुआ तब भी आप पर GST applicable होगा लेकिन आपको इसके लिए आवेदन तो करना ही होगा।

  • स्टोर के लिए जगह कैसे चुनें

कोई भी बिजनेस क्यों ना शुरू करें उसके लिए जगह का चयन बड़ी सावधानी से करना चाहिए। गलत जगह चुन लेने से आपको व्यापार में भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है। अगर आप कपड़ों का होलसेल बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो फिर आप अपने घर से भी शुरू कर सकते हैं परंतु अगर आपको रिटेल बिजनेस शुरू करना है तो उसके लिए दुकान लेना आवश्यक है। 

कपड़े के बिजनेस के लिए दुकान आपको ऐसी जगह पर लेनी होगी जहां पर ज्यादा लोग आते जाते हो और लोगों की नजर आपकी दुकान पर पड़े। आपकी दुकान मेन रोड पर हो तो और ज्यादा अच्छा है। ऐसा स्थान चुनने की कोशिश करें जहाँ पर आपके प्रतिद्वंद्वी कम हों और मुनाफा कमाने के चांस ज्यादा हों।

  • कितना इन्वेस्टमेंट (निवेश) करें

कपड़ों का बिजनेस शुरू करने के लिए आपको 5 से 10 लाख रुपए तक का इन्वेस्टमेंट करने की जरूरत पड़ेगी। आप अपनी जमापूंजी इसमें लगा सकते हैं और आवश्यकता पड़े तो बैंक से लोन भी ले सकते हैं। हर बड़े कारोबार की शुरुआत पहले छोटे स्तर से ही होती है। अतः आप अपने बजट के हिसाब से इन्वेस्टमेंट करें।

  • स्टोर के लिए स्टॉक लाएं और सप्लायर खोजें

आपको अपनी दुकान में ग्राहकों की मांग के अनुसार उनके जरूरत के हिसाब से स्टॉक उपलब्ध होना चाहिए। ध्यान रहे कि स्टोर में इतना माल अवश्य रहेगी आपकी दुकान के शेल्फ भरे रहें। आप एक जगह से स्टॉक ना मंगा कर अलग-अलग जगहों से स्टॉक मंगाइए।

आप ट्रेड शो में जाइए और वहां पर अलग-अलग सप्लायर्स से जुड़िये। ट्रेड शो में विभिन्न प्रकार की कपड़ों की वैरायटी पेश की जाती है आप अपनी जरूरत के हिसाब से माल खरीदें। यहां पर आप सप्लायर से मिलकर अपने स्टोर के लिए आवश्यक स्टॉक की जानकारी भी ले सकते हैं, ताकि जरूरत पड़ने पर आपको दुकान के लिए कपड़े मिल सके। ऐसे विक्रेताओं से भी मिलिए जिनसे कपड़े लेकर आप अपनी दुकान में बेच सकते हैं।

अपने स्टोर पर नए फैशन और ब्रांड के हिसाब से कपड़े रखिए। आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि तौर पर कपड़े मौसम के हिसाब से हों। सभी कस्टमर्स की पसंद अलग अलग होती है तो आपको उनकी पसंद के अनुसार अलग-अलग वैरायटी रखनी होगी, हां लेकिन ऐसे कपड़े रखने की आपको जरूरत नहीं है जिनकी बिक्री ना के बराबर या बहुत कम होती हो।

  • मार्जिन और लाभ

कपड़ों के बिजनेस में अन्य किसी व्यापार के मुकाबले काफी अच्छा मार्जिन मिलता है इसलिए यह बहुत फायदेमंद व्यापार होता है। इस बिजनेस में करीब 40 से 50% तक का मार्जिन रहता है, हां लेकिन यह इस पर भी निर्भर करता है कि आप किस कंपनी का ब्रांड के कपड़े बेच रहे हैं क्योंकि ब्रांडेड कपड़ों का मार्जिन कंपनी द्वारा ही निर्धारित होता है। ब्रांडेड कपड़ों में मुख्यतः 25 से 50% तक मार्जिन रहता है। 

इसके अलावा कपड़ों पर मार्जिन उनकी गुणवत्ता तथा ग्राहक पर भी निर्भर होता है। दुकान का किराया, वर्कर्स का वेतन, विभिन्न टैक्स और मेंटेनेंस का खर्चा निकालने के बाद जो राशि बचती है मैं आपका प्रॉफिट होता है। जय सारे खर्चे निकाल लेने के बाद भी इस बिजनेस में अच्छा ही फायदा होता है।

  • आवश्यकता पड़ने पर वर्कर्स को नियुक्त करें

जब आप नया बिज़नेस शुरू करते हैं उस समय आपका बजट ज्यादा नहीं होता और नया लेकिन जब आपका व्यापार ठीक से चलने लगे, ग्राहक बढ़ जाएं और अच्छी कमाई होने लगे तब आपको अपने बिज़नेस को ठीक प्रकार से चलाने हेतु काम करने वाले लोगों की जरूरत होगी, ताकि आपके बढ़ते हुए व्यवसाय को सुचारू रूप से बिना किसी परेशानी आप चला पाएं।एक दुकान पर के आपको 1 या 2 वर्कर्स की जरूरत होगी, जो काम में आपकी सहायता करेंगे तथा आपको इन्हें 3 से 4 हजार रूपये प्रतिमाह तक का वेतन देना होगा, जो कि ज्यादा बड़ी रकम नहीं है। आप अपनी दुकान पर जरूरत के हिसाब से वर्कर रखिये और समय व जरूरत के साथ वर्कर्स बढाइये। इसके साथ ही आप चाहें तो मार्केटिंग स्टाफ भी रख सकते हैं, जो कि आपके दुकान की मार्केटिंग पर ध्यान देगा।

  • कपड़ों की सेल रखें और डिस्काउंट दें

अपनी दुकान पर कपड़ों की सेल समय-समय पर रखिए क्योंकि सेल से ग्राहक दुकान की ओर आकर्षित होते हैं। इस साल में आप ऐसा माल भी आसानी से बेच सकते हैं जो स्टॉक बच गया है या फिर बिक नहीं रहा। शुरुआत में दुकान खोलने पर ग्राहकों को डिस्काउंट अवश्य दें। त्योहार आदि के सीजन में कस्टमर्स को डिस्काउंट दीजिये और अलग-अलग ऑफर्स रखें जिससे ग्राहक ज्यादा आएंगे। अपने दोस्त रिश्तेदार इत्यादि जो भी आपकी कांटेक्ट लिस्ट में हैं उन्हें अपने दुकान के स्पेशल ऑफर, सेल इत्यादि की जानकारी मैसेज से पहुंचाएं।

  • स्टोर का बहीखाता बनाइए

आपको अपने बिज़नेस में किए गए खर्च, मुनाफा, नुकसान, इनकम, इन सब के लिए एक बहीखाता बनाना होगा। जिससे आप अपनी ख़रीद, बिक्री का हिसाब रख सकें। साथ ही इससे आपको टैक्स देने के वक़्त व GST फाइल करने के समय भी मदद मिलेगी।

  • कपड़ों के बिज़नेस से जुड़ी इन आवश्यक बातों का ध्यान रखें

यह व्यापार क्षेत्र बहुत स्पर्धा वाला होता है। यहां पर आपको कई प्रतिद्वंदी मिलेंगे। बड़ी बड़ी कम्पनियां अपने ब्रांड के शोरूम ओपन करती रहती है जिससे छोटे व्यापारियों के लिए कंपटीशन बढ़ गया है। इस कारोबार के लिए ऊपर बताए पॉइंट्स  के अलावा आपको और भी कई आवश्यक बातों पर ध्यान देना होता है व कई तैयारियां करनी होती हैं जो इस प्रकार से हैं :

  • कपड़ों का व्यापार शुरू करने के लिए त्योहार का समय अति उत्तम माना जाता है, अतः कोशिश करके अपनी स्टोर की ओपनिंग किसी त्यौहार के कुछ दिनों पहले करें।
  • इस व्यापार में थोड़े थोड़े समय में फैशन चेंज होता रहता है इसलिये पहले से बहुत ज्यादा माल ना खरीदें क्योंकि फैशन आउट होने पर आपका माल नहीं बिकेगा।
  • कपड़े के व्यापार में आपको गुणवत्ता और कलर की जानकारी होना बहुत जरूरी है, आपको ध्यान रखना होगा कि आपके ग्राहक कौनसे कलर ज्यादा पसंद करते हैं और किस क्वालिटी के कपड़े खरीदते हैं।
  • इस बिजनेस में आपको रिटर्न पॉलिसी भी रखना आवश्यक है आपको कस्टमर्स को पहले ही बता देना होगा कि कितने दिन के भीतर वह कपड़े रिटर्न कर सकते हैं, क्योंकि कपड़ों में कई बार क्वालिटी, साइज इत्यादि कारणों से ग्राहकों को कुछ समस्या हो जाती है इसके लिए पहले से ही पॉलिसी बनाकर रखें।
  • आपको दुकान में ऐसे वर्कर्स रखने होंगे जो सृष्टि से काम करें क्योंकि कपड़ों की स्टोर में कई सारे कपड़े ग्राहकों को दिखाए जाते हैं फिर उन्हें फोल्ड करके ठीक से शेल्फ में जमाना होता है। इन कार्यों हेतु एक्टिव वर्कर्स की जरूरत होती है।
  • आपको यह भी ध्यान रखना होगा कि आप ही आपका कोई वर्कर ग्राहकों से रुखा व्यवहार ना करे। अगर आप अपने कस्टमर से अच्छे से बात करेंगे तो आपकी कमाई भी ज्यादा होगी।
  • कस्टमर्स को बैठाने हेतु साफ जगह होनी चाहिए। उनके आने पर चाय व पानी और अधिक माल खरीदने पर डिस्काउंट देना यह बातें आपकी दुकान पर कस्टमर को आकर्षित करती हैं और कस्टमर आपकी दुकान के लिए माउथ पब्लिसिटी भी करते हैं अतः इन बातों का भी ध्यान रखें। 
  • कपड़ों की रेट में ज्यादा बारगेनिंग ना करें। इससे आपके काम पर बुरा प्रभाव पड़ेगा  फिर  हर बार आपके कस्टमर  आपसे बहुत ज्यादा बारगेनिंग करके ही कपड़े खरीदेंगे और आपका बहुत सारा समय भी खराब होगा।
  • कपड़ों के बिजनेस में कभी डबल कमाई भी हो जाती है जैसे कि त्यौहार आदि का समय हो तब और कभी मंदी का दौर भी आता है  इसलिए  सीजन के समय में जब कमाई ज्यादा हो तब  सेविंग जरूर करके रखें  ताकि मंदी के समय में आपको परेशानी ना आए।
  • अपने प्राइस लिस्ट बनाते समय एक बार मार्केट से अन्य दुकानदारों की प्राइस भी पता कर लें, क्योंकि आजकल कंपटीशन बढ़ गया है तो हो सकता है कोई दुकानदार सस्ते दामों में माल बेच रहा हो इसलिए आपको अपनी प्राइस लिस्ट सारी इनफार्मेशन लेने के बाद ही बनानी चाहिए।
  • जनरल गारमेंट स्टोर खोलने की अपेक्षा कोई एक या दो प्रोडक्ट पर फोकस कीजिए। ऐसा करने से कम लागत  में ही व्यापार प्रारंभ किया जा सकता है। हां लेकिन इन्हीं प्रोडक्ट्स की ज्यादा वैराइटी आप रख सकते हैं।
  • आप चाहे तो रेडीमेड गारमेंट्स प्रोडक्ट मैं अपने हिसाब से कुछ बदलाव करके भी उन्हें बेच सकते हैं। आपको सोचना होगा कि किस तरीके से यह कपड़े ग्राहकों को ज्यादा आकर्षित कर सकेंगे।
  • इन सब बातों रखने के साथ ही आपको हमेशा पॉजिटिव ही रहना होगा क्योंकि बिजनेस में उतार- चढ़ाव तो आते ही रहते हैं लेकिन आपको किसी भी स्थिति से घबराना नहीं है और अपने बिजनेस को पूरी मेहनत और लगन के साथ आगे बढ़ाना होगा।

Leave a Comment